World History Notes In Hindi Download Pdf

HISTORY

World History Notes In Hindi 

Today, we are sharing a World History Notes In Hindi . This is very useful for the upcoming competitive exams like SSC CGL, BANK, RAILWAYS,  RRB NTPC, LIC AAO, and many other exams. World History Notes are very important for any competitive exam and these World History Notes In Hindi is very useful for it. this FREE PDF will be very helpful for your examination.MyNotesAdda.com is an online Educational Platform, where you can download free PDF for UPSC, SSC CGL, BANK, RAILWAYS,  RRB NTPC, LIC AAO, and many other exams.

 

 

Our World History Notes In Hindi  is very Simple and Easy. We also Cover Basic Topics like Maths, Geography, History, Polity, etc and study materials including previous Year Question Papers, Current Affairs, Important Formulas, etc for upcoming Banking, UPSC, SSC CGL Exams. Our PDF will help you to upgrade your marks in any competitive exam.

 

Topics Includes In World History Notes In Hindi 

 

  1. पुनर्जागरण
  2. फ्रांस की क्रान्ति
  3. इंग्लैण्ड की क्रान्ति
  4. औद्योगिक क्रान्ति
  5. रुसी क्रान्ति प्रथम
  6. रुसी क्रान्ति द्वितीय
  7. विश्न युद्ध आदि।

 

फ्रांसीसी क्रांति

( 1789-1799) फ्रांस के इतिहास की राजनैतिक और सामाजिक उथल-पुथल एवं आमूल परिवर्तन की अवधि थी जो 1789 से 1799 तक चली। बाद में, नेपोलियन बोनापार्ट ने फ्रांसीसी साम्राज्य के विस्तार द्वारा कुछ अंश तक इस क्रांति को आगे बढ़ाया। क्रांति के फलस्वरूप राजा को गद्दी से हटा दिया गया, एक गणतंत्र की स्थापना हुई, खूनी संघर्षों का दौर चला, और अन्ततः नेपोलियन की तानाशाही स्थापित हुई जिससे इस क्रांति के अनेकों मूल्यों का पश्चिमी यूरोप में तथा उसके बाहर प्रसार हुआ। इस क्रान्ति ने आधुनिक इतिहास की दिशा बदल दी। इससे विश्व भर में निरपेक्ष राजतन्त्र का ह्रास होना शुरू हुआ, नये गणतन्त्र एव्ं उदार प्रजातन्त्र बने।

 

आधुनिक युग में जिन महापरिवर्तनों ने पाश्चात्य सभ्यता को हिला दिया उसमें फ्रांस की राज्यक्रांति सर्वाधिक नाटकीय और जटिल साबित हुई। इस क्रांति ने केवल फ्रांस को ही नहीं अपितु समस्त यूरोप के जन-जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया। फ्रांसीसी क्रांति को पूरे विश्व के इतिहास में मील का पत्थर कहा जाता है। इस क्रान्ति ने अन्य यूरोपीय देशों में भी स्वतन्त्रता की ललक कायम की और अन्य देश भी राजशाही से मुक्ति के लिए संघर्ष करने लगे। इसने यूरोपीय राष्ट्रों सहित एशियाई देशों में राजशाही और निरंकुशता के खिलाफ वातावरण तैयार किया।

क्रांति के कारण

  • राजनीतिक परिस्थितियाँ
  • सामाजिक परिस्थितियाँ
  • आर्थिक परिस्थितियाँ
  • विचारकों/दार्शनिकों की भूमिका
  • मॉण्टेस्क्यू
  • वाल्टेयर
  • रूसो
  • अन्य दार्शनिक
  • तात्कालिक कारण

इंग्लैंड की क्रांति संक्षेप में

1688 ई. की क्रांति जेम्स द्वितीय के शासनकाल में हुई थी. क्रांति के लिए जेम्स द्वितीय ने खुद वातावरण तैयार किया था. उसके कार्यों से सभी दल के लोग असंतुष्ट थे. उन्हें विश्वास हो गया था कि राजा स्वेच्छाचारी शासन की पुनरावृत्ति करना चाहता है. जेम्स द्वितीय रोमन  कैथोलिक चर्च की शक्ति को बढ़ाना चाहता था. वह कैथलिकों को राज्य के महत्त्वपूर्ण पदों पर नियुक्त करना चाहता था. वह किसी भी कानून को स्थगित अथवा रद्द करने के अधिकार द्वारा अपनी सत्ता को सर्वोपरि बनाना चाहता था. वह टेस्ट एक्ट को समाप्त करना चाहता था और इसलिए उसने न्यायालय में अपने समर्थक न्यायाधीशों को ही रहने दिया. वह स्थाई सेना की सहायता से विरोधियों पर नियंत्रण रखना चाहता था. इंग्लैंड की जनता जेम्स द्वितीय के क्रूर शासन को इसलिए बर्दास्त कर रही थी कि उसकी मृत्यु के बाद इंग्लैंड में कैथोलिक शासन का अंत होगा. लेकिन जून, 1688 ई में जेम्स द्वितीय की दूसरी कैथोलिक पत्नी से एक पुत्र उत्पन्न हुआ. पुत्र के जन्म ने इंग्लैंड की क्रांति को अवश्यम्भावी बना दिया. लोगों को विश्वास हो गया कि जेम्स द्वितीय की नीति अनंत काल तक चलती रहेगी. इस आशंका से लोग भयभीत हो गए. वे क्रांति द्वारा कैथोलिक शासन के अंत का प्रयास करने लगे. प्रतिकूल परिस्थिति के कारण जेम्स द्वितीय ने गद्दी छोड़ दिया. विलियम तृतीय और मेरी को इंग्लैंड का सम्राट और साम्राज्ञी घोषित किया गया. “अधिकारों का घोषणापत्र” तैयार किया गया. जेम्स द्वितीय के सभी कार्यों को अवैध घोषित किया गया. प्रजा तथा संसद के अधिकारों की पुष्टि की गई.

1688 ई. की क्रांति के कारण

  • जेम्स द्वितीय की धार्मिक नीति
  •  फ्रांस के साथ मैत्री सम्बन्ध
  •  टेस्ट एक्ट के प्रति उदासीनाता
  •  निलंबन और विमोचन के अधिकार का प्रयोग
  •  विश्वविद्यालय में हस्तक्षेप 
  • धार्मिक न्यायालय की स्थापना
  •  स्थायी सेना में वृद्धि
  • स्कॉटलैंड और आयरलैंड के प्रति नीति 
  • चुनाव में हस्तक्षेप
  •  सात पादरियों का मुकदमा 
  •  पुत्र का जन्म

                                    

World History Notes In Hindi  Related Post

  1. Indian History In Hindi PDF Free Download
  2. Indian Constitution PDF
  3. General Knowledge Jharkhand Free Download
  4. Short Tricks GK for SSC
  5. List of Indian Government Schemes
  6. STATICGENERAL KNOWLEDGE PDF
  7. 9000 GK Questions
  8. {**PDF*} 1500+ One Liner General Knowledge in Hindi PDF Questions
  9. Fighter Planes of India
  10. विश्व व भारत की रैंक
  11. General Knowledge Questions





Topic name:-World History Notes In Hindi
Number of Pages:- 5





Click here to download:-World History Notes In Hindi

MyNotesAdda.com will update many more new pdf and study materials and exam updates, keep Visiting and share our post, So more people will get this.

This PDF is not related to MyNotesAdda and if you have any objection over this pdf, you can mail us at [email protected]

TAGS:-World history book in Hindi pdf download, World history notes in Hindi for UPSC, World history in Hindi for UPSC, World history handwritten notes in Hindi, World history book for UPSC in Hindi pdf, Vishwa ka Itihas in Hindi pdf, Ncert world history notes in Hindi, Ignou world history notes in Hindi

Author: NCERTADMIN

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *